आयुर्वेद और रॉ फ़ूड डाइट में समानता

आयुर्वेद और रॉ फ़ूड डाइट के बीच कनेक्शन और समानता की खोज ही इस आर्टिकल का मुख्य उद्देश्य है. ‘आयुर्वेद’ शब्द, प्राचीन भारतीय भाषा, संस्कृत से है, और इसका अर्थ है “जीवन का ज्ञान”. जीवन के आयुर्वेदिक दृष्टिकोण में आपके शरीर की अनोखी जरूरतों को सुनना और संबोधित करना शामिल है. यह आयुर्वेदिक दृष्टिकोण अपने मानसिक और भावनात्मक अवस्थाओं को पहचानना और संतुलित करना तथा आपकी आत्मा के साथ अपने संबंध को गहरा करने पर जोर देता है.

रॉ फ़ूड डाइट इस सिद्धांत पर आधारित होता है कि अपने आहार में कच्चा भोजन ज्यादा खाने से आपका शरीर सामान्य बन जाएगा और आपका शरीर एल्कलाइज हो जाएगा. यह, बदले में, मन को शरीर से जोड़ता है; इस प्रकार, आयुर्वेद और रॉ फ़ूड डाइट बहुत समान हैं. आप इन दोनों को ऐसे तरीके से कैसे कनेक्ट कर सकते हैं कि आयुर्वेद और रॉ फ़ूड डाइट आपके स्वास्थ्य के लिए अनुकूल हो? उम्मीद है कि यह आर्टिकल इस विषय में एक संक्षिप्त मार्गदर्शन प्रदान करेगा.

आयुर्वेद के तीन दोष क्या हैं?

आयुर्वेद में, यह विचार है कि आप अपने ‘दोष’ के अनुसार खाते हैं; वात, पित्त और कफ. वात हवा और आकाश के तत्वों से बना है. पित्त आग और पानी के तत्वों से बना है. कफ पानी और पृथ्वी के तत्वों से बना है. वात किस्म के लोग आम तौर पर पतले होते हैं और वजन बढ़ाने के लिए इन्हें कठिन मेहनत करना पड़ता है. इस किस्म के लोगों को पर्याप्त आराम प्राप्त करने की ज़रूरत होती है. वे किसी भी काम को बार-बार नहीं करते, क्योंकि वे आसानी से थक जाते हैं. पित्त प्रकार के लोग आम तौर पर मध्यम आकार के और अच्छी तरह से अनुपात में होते हैं. वे तेज बुद्धि के साथ-साथ बुद्धिमान भी होते हैं. कफ़ प्रकार के लोग मजबूत, भारी आकृति के होते हैं. वे हमेशा आसानी से वजन हासिल करने के कगार पर होते हैं. वे अक्सर जीवन के बारे में सकारात्मक दृष्टिकोण रखते हैं.

तो, इसका क्या मतलब है, और यह आपके लिए कैसे लागू होता है?

आयुर्वेद में, यह माना जाता है कि प्रत्येक व्यक्ति को एक प्रभावशाली दोष द्वारा शासित किया जाता है और आपको उस दोष के अनुसार भोजन खाना चाहिए. हालांकि, यह आर्टिकल आयुर्वेद और रॉ फ़ूड डाइट के संबंध में है, इसलिए मैं केवल इन दोनों आहारों के साथ मेल खाने वाले खाद्य पदार्थों का उल्लेख करूंगा.

  • वात संतुलन: मीठे फल, खुबानी, एवोकैडो, केला, जामुन, अंगूर, खरबूजे, शतावरी, बीट्स, ककड़ी, लहसुन, मूली, तुरई.
    परहेज: सूखे फल, सेब, क्रैनबेरी, नाशपाती, तरबूज, ब्रोकोली, गोभी, फूलगोभी, कच्चा प्याज.
  • पित्त संतुलन: मीठे फल, एवोकैडो, नारियल, अंजीर, आम, सूखे बेर, मीठी और कड़वी सब्जियां, गोभी, ककड़ी, ओकरा, आलू.
    परहेज: खट्टे फल, जामुन, केले, प्लम, संतरे, नींबू, तीखी सब्जियां, लहसुन, प्याज.
  • कफ संतुलन: सेब, खुबानी, जामुन, चेरी, क्रैनबेरी, आम, आड़ू, तीखी और कड़वी सब्जियां, ब्रोकोली, अजवाइन, लहसुन, प्याज.
    परहेज: मीठा और खट्टा फल, केला, नारियल, खरबूजे, पपीता, मिठाई और रसदार सब्जियां, आलू, टमाटर.

आयुर्वेद में बहुत से ऐसे सुझाव हैं, जिनका अनुवाद एक रॉ फ़ूड डाइट के रूप में बहुत आसानी से हो सकता है. इस तरह के सुझाव हैं:

  1. मुख्य रूप से मौसमी फल, सब्जियां, नट, बीज और अनाज खाएं.
  2. हमेशा अपने दोष के अनुसार खाएं.
  3. प्रत्येक दो सप्ताह में एक दिन के लिए उपवास रखें.
  4. एक नियमित भोजन की नियमितता स्थापित करें.
  5. अपने जीवन से कैफीन युक्त, कार्बोनेटेड और मादक पेय पदार्थों को हटा दें या सीमित करें.
  6. हर्बल चाय, फलों और सब्जियों का जूस पीयें.

आपकी क्या राय है? लिखने में संकोच न करें.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Register now to get updates on promotions and coupons.

Shopping cart

×