Dabur GlycoDab Tablets for Diabetes – ग्लाइकोडैब टैबलेट

डाबर इंडिया लिमिटेड ने आयुर्वेदिक विज्ञान अनुसंधान केंद्र (सीसीआरएएस), आयुष मंत्रालय, भारत सरकार के सहयोग से मधुमेह के प्रबंधन के लिए ग्लाइकोडैब टैबलेट (‘GlycoDab Tablets’) लॉन्च किया है. पारंपरिक आयुर्वेद के साथ भारत में मधुमेह के बढ़ते खतरे के खिलाफ डाबर इंडिया लिमिटेड और आयुष मंत्रालय ने अपनी लड़ाई में हाथ मिला लिया है.

आयुर्वेद के पारंपरिक ज्ञान को एक समकालीन हेल्थकेयर विकल्प में बदलने के अपने मिशन के हिस्से के रूप में, दुनिया के सबसे बड़े विज्ञान आधारित आयुर्वेद कंपनी डाबर इंडिया लिमिटेड ने सीसीआरआरएएस (CCRRAS – आयुष मंत्रालय, भारत सरकार) के साथ साझेदारी में एक क्रांतिकारी और सफल उत्पाद “डाबर ग्लाइकोडैब टैबलेट” (‘GlycoDab Tablets’ – आयुष 82) की शुरुआत की घोषणा की.

ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) लॉन्च करने की घोषणा करते हुए, कंपनी के मार्केटिंग के प्रमुख डॉ. दुर्गा प्रसाद वेलिडिंडी ने कहा कि यह उत्पाद नैदानिक ​​अध्ययन और वैज्ञानिक प्रयोगों द्वारा समर्थित है.

Sponsored

एक हज़ार डायबिटीज से पीड़ित रोगियों के नैदानिक ​​अध्ययन से पता चला है कि ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets – आयुष 82) उपवास और भोजन के बाद के रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है. नैदानिक उपचार के चौबीस सप्ताह बाद उन रोगियों में ​​सुधार दर्ज किया गया है.

डॉ. प्रसाद ने कहा कि भारत उन शीर्ष तीन देशों में से एक है जिसमें मधुमेह से पीड़ित मरीजों की आबादी ज्यादा है. शायद आपको मालूम होगा कि वर्ष 2015 में भारत में मधुमेह के 69.1 मिलियन मामले पाए गए थे.

ऑनलाइन आर्डर करने के लिये यहाँ जाएँ : AMAZON.COM

ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) मधुमेह के रोगियों के लिए एक क्रांतिकारी और सफल उत्पाद है.

डायबिटीज के क्षेत्र में डाबर इंडिया लिमिटेड ने इससे पहले भी डाबर मधुरक्षक लांच किया था. हालाँकि, इस क्षेत्र में कंपनी के द्वारा लांच किया गया यह दूसरा उत्पाद (प्रोडक्ट) है. यह नया उत्पाद (GlycoDab Tablets) प्राचीन भारतीय आयुर्वेद के ज्ञान और विज्ञान के अत्याधुनिक ज्ञान के साथ बनाया गया एक और बड़ा आविष्कार है और यह मधुमेह को हराने के लिए तैयार हर्बल भलाई का एकदम सही मिश्रण साबित होगा.

भारत में मरीजों ने चिकित्सा हस्तक्षेप के रूप में हर्बल और वनस्पति निष्कर्षों को प्राथमिकता दी. डॉ. दुर्गा प्रसाद वेलिडिंडी ने कहा कि डाबर कुछ अन्य आयुर्वेद उत्पादों के व्यावसायीकरण के लिए मंत्रालय के साथ काम कर रहा है.

ऑनलाइन आर्डर करने के लिये यहाँ जाएँ : AMAZON.COM

ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) डायबिटीज में ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है और प्री-डायबिटीज रोगियों की सहायता करता है. मधुमेह के प्रभावी प्रबंधन के लिए विकसित सबसे उन्नत उत्पाद को आगे बढ़ाने के लिए उस उत्पाद का कई नैदानिक ​​अध्ययन और वैज्ञानिक प्रयोग किया जाता है.

डाबर डॉट कॉम के अनुसार आयुर्वेद की एक समृद्ध विरासत और प्रकृति के गहरे ज्ञान के साथ, डाबर ने हमेशा प्रामाणिक आयुर्वेद पांडुलिपियों के अध्ययन के माध्यम से सभी के लिए सुरक्षित, लागत प्रभावी और प्रभावी स्वास्थ्य देखभाल पर ध्यान केंद्रित किया है.

नए क्रांतिकारी उत्पाद डाबर ग्लाइकोडैब (GlycoDab Tablets) गोलियों के माध्यम से, डाबर इंडिया लिमिटेड वर्तमान में भारत में सबसे हानिकारक गैर-संवादात्मक रोग का मुकाबला करने का प्रयास कर रहा है.

डाबर ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) में क्या है?

डाबर ग्लाइकोडैब (GlycoDab Tablets) एक आयुष 82 (टैबलेट फॉर्म में) है जिसे सीसीआरएएस, भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है. डाबर ग्लाइकोडैब में चार शक्तिशाली जड़ी-बूटियां हैं:

  1. आम्रबीज,
  2. जंबू बीज,
  3. करेला,
  4. गुड़मार की पत्तियां.

डाबर ग्लाइकोडैब (GlycoDab Tablets) को जड़ी बूटियों के अर्क लेकर एक सुविधाजनक खुराक के रूप में टैबलेट के फॉर्म में तैयार किया गया है. यह 100% आयुर्वेदिक है जो स्वस्थ जीवन को प्रबंधित करने में मदद करता है.

डॉ. दुर्गा प्रसाद वेलिडिंडी ने कहा है कि गोलियों को चिकित्सकीय पर्यवेक्षण के तहत ब्लड शुगर का स्तर 200 रहने पर दिन में दो बार लिया जाना चाहिए.

ऑनलाइन आर्डर करने के लिये यहाँ जाएँ : AMAZON.COM

आपकी क्या राय है? लिखने में संकोच न करें.