We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website Thinking Is A Job Close
वैकल्पिक चिकित्सा
डायबिटीज

वैकल्पिक चिकित्सा तथा प्राकृतिक उपचार के लाभ

Posted On January 18, 2018 at 6:23 pm by / No Comments

वैकल्पिक चिकित्सा प्राणरक्षक बनकर उभर रही है. एड्स और क्रोनिक फैटिज सिंड्रोम जैसे पुराने डिजेनेरेटिव बीमारियों से प्रभावित लोगों की बढ़ती संख्या के साथ, क्या आप चिंतित हैं या सोच रहे हैं ....

क्या अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखना संभव है?

आपके शरीर को ठीक से काम करने के लिये किन चीज़ों की आवश्यकता है?

Sponsored

क्यों परंपरागत चिकित्सा और अधिक जटिल और महँगी हो रही है और कुछ मामलों में बस अप्रभावी?

बढ़ती संख्या में लोग वैकल्पिक चिकित्सा और प्राकृतिक उपचार की तरफ आकर्षित हो रहे हैं. बीमारियों को रोकने और दैनिक स्वास्थ्य समस्याओं को हल करने के सरल, परंपरागत तकनीक पर आधारित तरीके लोगों को खूब राहत पहुँचा रही है.

क्या आपके पास अनुत्तरित प्रश्न हैं......?

आखिर लोग अपने भोजन और लोशन के लिये हेल्थ फ़ूड स्टोर्स में क्यों आते हैं? और ज्यादा लेने के लिए वे लोग बार-बार वहां क्यों जाते हैं?

यदि आप या आपके परिवार में कोई व्यक्ति बीमार पड़ता है, तो क्या करना चाहिये?

क्या ये चिकित्सा वास्तव में पुरानी पत्नियों की कहानियां हैं? या ये वास्तव में काम कर सकती है? Click To Tweet

यहां तक ​​कि मुख्यधारा के डॉक्टरों ने रोजमर्रा की शिकायतों और गंभीर बीमारियों का इलाज करने के लिए प्राकृतिक ड्रगलेस चिकित्सा की सिफारिश करना शुरू कर दिया है. उदाहरण के लिए, आहार संशोधन, कई बीमारियों के खिलाफ हथियार बन गए हैं. एक पीढ़ी पहले इन बिमारियों का मुख्य रूप से प्रिस्क्रिप्शन ड्रग्स के साथ ही इलाज किया जाता था.

अब यह तो आपको पहले से ज्ञात है कि एक गलत डाइट के कारण कई परिस्थितियां उत्त्पन्न होती हैं. और सही आहार के प्रयोग से उन परिस्थियों को उलटा जा सकता है.

हृदय रोग, कैंसर, वजन की समस्याएं, गठिया, मधुमेह, उच्च रक्तचाप - इन सभी का भोजन के साथ कुछ हद तक इलाज किया जा सकता है.

वैकल्पिक चिकित्सा में पाए जाने वाले प्राकृतिक उपचार
वास्तव में पश्चिमी उपचार से काफी पुराने हैं,
जैसे- सर्जरी और एंटीबायोटिक.

विशेषज्ञों का अनुमान है कि भारत की पारंपरिक औषधि, हर्बल उपचार और आयुर्वेद लगभग 5000 वर्षों से है.

सुरक्षित, प्राकृतिक पदार्थों के साथ काम करने वाले चिकित्सकों द्वारा रिपोर्ट किए गए वैज्ञानिक अनुसंधान या नैदानिक ​​प्रभावों के साथ कई वैकल्पिक चिकित्सा उपचार शुरू हुए.

लेकिन हम एक ऐसी पीढ़ी में रहते हैं जो आत्म-निर्भरता की इस पुरानी परंपरा से अलग हो गई है. हीलिंग और स्वास्थ्य देखभाल लगभग ऐसी चीज़ बन गई है मानो विधिवत लाइसेंस लेने वाले चिकित्सकों का विशेष प्रांत हो. जबकि डॉक्टर और कोई भी अन्य पेशेवर - वास्तव में बहुत अच्छे होते हैं. इनलोगों के बारे में एक ख़ास बात जो इतना महान नहीं है, जब आप उनके बिना कुछ भी नहीं कर सकते....

क्या हम डॉक्टर के बिना अपने स्वास्थ्य को बचाने के लिए कुछ भी करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं?
या हो सकता है कि हमारी ज़िंदगी बचाने के लिए?

क्या होता है जब चिकित्सा सहायता इतनी आसानी से उपलब्ध नहीं होती है?

क्या होता है जब डॉक्टरिंग बस काम नहीं करता?

हम में से कुछ डॉक्टर के पास जाते हैं. फिर दूसरे डॉक्टर के पास जाते हैं. और अभी भी कोई मदद नहीं मिल पाता है? क्या यही इस यात्रा का अंत है?

जबकि एंटीबायोटिक दवाओं ने लाखों जीवों को बचाया है. उन्होंने वास्तव में उन रोगाणुओं के कुछ पुनरुत्थान को हल नहीं किया है जो पारंपरिक चिकित्सा पर प्रतिक्रिया न देने वाले नए रूपों में बदल रहे हैं.

जिस तरह से लोग अपने स्वास्थ्य के बारे में सोचते हैं, उसमें एक वास्तविक बदलाव आया है. बढ़ती स्वास्थ्य देखभाल लागत (महंगा इलाज) वैकल्पिक चिकित्सा में रुचि की हालिया वृद्धि में एक कारक है.

बहुत से लोग वैकल्पिक चिकित्सकों से पूरे व्यक्ति - शरीर, मन और आत्मा के इलाज पर जोर देते हैं. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कुछ चिकित्सक मरीजों की मदद करने के लिए गहन परामर्श का उपयोग करते हैं. ताकि उनके दैनिक जीवन के पहलुओं जैसे- नौकरी, तनाव, वैवाहिक समस्याएं, आहार या नींद की आदत इत्यादि से उनके लक्षणों के पीछे के कारण का पता लगाया जा सके.

प्रबंधित देखभाल और अवैयक्तिक ग्रुप प्रथाओं के इस युग में मरीजों को वैकल्पिक चिकित्सा का यह व्यक्तिगत दृष्टिकोण विशेष रूप से आकर्षक लगता है.

प्राकृतिक उपचार के मुख्य लक्ष्यों में से एक यह है कि निर्भरता के चक्र को तोड़ा जाय और लोगों का जीवन उनके अपने नियंत्रण में अधिक होना चाहिए. डायबिटीज पर हमारी 'एक्सक्लूसिव रिपोर्ट' पढ़ें.

Leave a Reply

X
%d bloggers like this: