We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website Thinking Is A Job Close
एक व्यक्ति को मधुमेह कैसे होता है
डायबिटीज

एक व्यक्ति को मधुमेह अर्थात डायबिटीज कैसे होता है?

Posted On January 17, 2018 at 8:18 pm by / No Comments

मधुमेह एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर, या सटीक तौर पर कहें तो अग्न्याशय, इंसुलिन बनाने की क्षमता खो देता है, जो रक्त में शुगर के स्तर को नियंत्रित करने के लिए जरूरी रासायनिक होता है. जैसे ही हम भोजन खाते हैं, ग्लूकोज नामक एक पदार्थ रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है. और यह सुनिश्चित करना इंसुलिन की भूमिका है कि यह ग्लूकोज शरीर के विभिन्न भागों में पहुँचा दिया जाय, इसके बदले में हमें जरूरी ऊर्जा की प्राप्ति होती है.

तो हमें मधुमेह जैसी बीमारी कैसे मिली?

मधुमेह के बारे में एक ज्ञात तथ्य यह है कि यह वंशानुगत हो सकता है, खासकर यदि किसी पारिवारिक सदस्य का मधुमेह का इतिहास हो. मोटापा भी सबसे सामान्य कारकों में से एक है, जिससे व्यायाम में कमी और उच्च रक्तचाप के स्तर में वृद्धि हो सकती है. अमेरिकी अध्ययनों से पता चला है कि जब एक माँ 9 पौंड से अधिक वजन के एक बच्चे को जन्म देती है तो उस बच्चे में मधुमेह भी विकसित हो सकती है.

मधुमेह के दो प्रकार होते हैं.

टाइप-1 डायबिटीज़ प्रायः तब होता है जब किसी बच्चे की पैंक्रियाज इंसुलिन बनाने की अपनी क्षमता को पूरी तरह से खो देता है. मधुमेह के आम लक्षणों में अत्यधिक प्यास, लगातार पेशाब और अत्यधिक भूख के बावजूद निरंतर वजन घटना शामिल हैं. बच्चे इंसुलिन पर निर्भर होने लगते हैं. और इसके गंभीर परिणामों में अंधापन और शरीर में कुछ अंगों के विच्छेदन भी शामिल हो सकते हैं.

Sponsored

टाइप-2 डायबिटीज़ टाइप-1 डायबिटीज से कहीं अधिक सामान्य है. इसके लक्षणों में टाइप-1 के लक्षण शामिल हो सकते हैं, लेकिन इसकी प्रमुख चिंता यह है कि मधुमेह से पीड़ित लगभग आधे मरीजों में ऐसे लक्षण नहीं होते. और बच्चों के लिए वंशानुगत रिकॉर्ड मधुमेह के कारण नहीं भी हो सकते हैं. इन्हें अक्सर गैर-इंसुलिन आश्रितों के रूप में माना जाता है, जिसमें इनसुलिन का अत्यधिक स्राव रक्तधारा से गुजरता है, जिसके कारण शरीर में रासायनिक प्रतिरोध के लिए उच्च प्रतिरोध विकसित होता है. अंतिम परिणाम उच्च रक्त शर्करा की मात्रा होगी, जिसका उपचार नियमित व्यायाम और स्टार्च तथा कार्बोहाइड्रेट में उच्च प्रोटीन आहार के द्वारा किया जा सकता है.

दुर्भाग्य से, किसी भी प्रकार के मधुमेह के लिए कोई निश्चित इलाज नहीं है. डॉक्टरों की एकमात्र सिफारिश जीवन को लम्बा खींचने की है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे अभी भी सामान्य रूप से रहना जारी रखेंगे. अकेले भारत में, मधुमेह के कारण वर्ष 2015 में करीब 346,000 मौतों की सूचना मिली है.

अवश्य पढ़ें: डायबिटीज का सबसे सफल प्राकृतिक उपचार

Leave a Reply

X
%d bloggers like this: