डायबिटीज में चाय पीना स्वास्थ्यवर्धक है

डायबिटीज में चाय पीना स्वास्थ्यवर्धक है

डायबिटीज में चाय – खासकर ग्रीन टी (हरी चाय) – कोशिकाओं को संवेदनशील बनाकर एक जटिल जैव रासायनिक प्रतिक्रिया के द्वारा मेटाबोलिज्म को मदद पहुंचाती है. अनुसंधानों के द्वारा बताया गया है कि डायबिटीज में चाय की खूबियों को बेहतर तरीके से तभी समझा जा सकता है जब इसका सेवन दूध के बिना किया जाय.

लोग कई शताब्दियों से चाय पीते आ रहे हैं. और आज भी दुनिया में यह पानी के बाद सबसे अधिक लोकप्रिय पेय पदार्थ है. अनुसंधानों से पता चला है कि यह स्वास्थ्यवर्धक भी है. चाय की यह लोकप्रियता इसकी कैंसर को रोकने की क्षमता और मानसिक स्वास्थ्य को ठीक करने की खूबियों की वजह से है. लेकिन चाय डायबिटीज के मरीजों के लिए भी स्वास्थ्यप्रद है. यह इन्सुलिन सेंसिटिविटी को बढ़ाता है. डायबिटीज में ग्रीन टी (हरी चाय) पीने से मेटाबोलिक सिस्टम को बेहतर तरीके से काम करने में मदद मिलती है.

डायबिटीज में चाय पीने से मेटाबोलिज्म स्वस्थ होती है

डायबिटीज और मेटाबोलिज्म नामक एक पत्रिका में 2013 के एक अनुसन्धान की रिव्यु में चाय की खूबियों के बारे बताया गया. डायबिटीज और मोटापा जो डायबिटीज के रोग को आमंत्रित करता है, इन दोनों ही रोगों से पीड़ित मरीजों के लिए चाय को लाभदायक पाया गया. इस पत्रिका में जापान में किये गए एक अध्ययन को प्रकाशित किया गया था. इस अध्ययन में पाया गया कि जो लोग प्रतिदिन छः कप या उससे ज्यादा ग्रीन टी (हरी चाय) पीते हैं, उनमें टाइप-2 डायबिटीज विकसित होने की सम्भावना, सप्ताह में एक बार ग्रीन टी (हरी चाय) पीने वाले लोगों की तुलना में, 33% कम होती है. इस पत्रिका ने ताइवान में हुए एक रिसर्च के हवाले से खबर दी कि जिन लोगों ने एक दशक से ज्यादा वक़्त तक ग्रीन टी (हरी चाय) का सेवन किया उनकी पतली और शरीर में फैट बहुत कम था.

डायबिटीज में चाय पीना अच्छा माना जाता है, क्योंकि चाय में पोलीफैनोल्स नामक तत्व पाए जाते हैं. पोलीफैनोल्स वास्तव में एंटीऑक्सीडेन्ट्स हैं, जो प्रत्येक पौधे पाए जाते हैं. पोलीफैनोल्स ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं. ये धमनियों को चौड़ी करते हैं जिससे ब्लड प्रेशर कम हो जाता हैं, खून के थक्के नहीं जमते और कोलेस्ट्रॉल भी कम हो जाता है.

ग्रीन टी (हरी चाय) में पाए जाने वाले पोलीफैनोल्स शरीर में ग्लूकोज को नियंत्रित करने में मदद करते हैं. वैसे खूबियाँ तो हर चाय में होती है, लेकिन ग्रीन टी (हरी चाय) स्पष्ट रूप से विजेता है. क्योंकि जब आप डायबिटीज में ग्रीन टी (हरी चाय) पियेंगे तो आपको ब्लैक टी (काली चाय) की तुलना में अधिक पोलीफैनोल्स प्राप्त होंगे.

डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए ग्रीन टी (हरी चाय) स्वास्थ्यवर्धक है क्योंकि यह मेटाबोलिक सिस्टम को बेहतर तरीके से काम करने मदद करती है.

Virgin Green Tea - डायबिटीज में चाय

अनुसंधानकर्ताओं का मानना है कि डायबिटीज में चाय पीने से इसमें पाए जानेवाले पोलीफैनोल्स इन्सुलिन एक्टिविटी बढ़ाते हैं.

डायबिटीज में चाय पीने के निम्नलिखित फायदे हैं.

  1. डायबिटीज में चाय इन्सुलिन सेंसिटिविटी को बढ़ाती है.
  2. ग्रीन टी (हरी चाय) ब्लड प्रेशर को नियंत्रित को नियंत्रित करती है.
  3. चाय पीने से खून का थक्का नहीं जमता.
  4. हृदयरोग होने की संभावना कम हो जाती है.
  5. ग्रीन टी (हरी चाय) पीने से टाइप-2 डायबिटीज विकसित होने की संभावना कम हो जाती है.
  6. ग्रीन टी (हरी चाय) पीने से कैंसर होने की सम्भावना भी कम हो जाती है.

अमेरिका में साल 2002 में किये गए एक अध्ययन से पता चला कि चाय में दूध मिलाने से इसकी इंसुलिन-संवेदनशील प्रभाव घट जाती है. पोलीफैनोल्स में एन्टी- ऑक्सीडेटिव गुण होते हैं जो हमें इन्फ्लामेशन और कार्सिनोजन से बचाते हैं. दूसरे शब्दों में, चाय में पाए जानेवाले तत्व हमें टाइप-2 डायबिटीज और कैंसर से बचा सकते हैं.

डायबिटीज में चाय पीने के लाभ स्पष्ट हैं.

लेकिन चाय के अलावा भी कई खाद्य पदार्थ ऐसे हैं जिनमें काफी मात्रा में पोलीफैनोल्स पाए जाते हैं. ऐसे खाद्य पदार्थ टाइप-2 डायबिटीज को रोकने और नियंत्रित करने में काफी लाभदायक हैं. बेरी, अंगूर, सेब और अनार ऐसे फल हैं जो गहरे रंग के होने के कारण पोलीफैनोल्स से भरपूर होते हैं. ब्रोकोली, प्याज, लहसुन, टमाटर, बैंगन और पालक भी पोलीफैनोल्स से भरपूर होते हैं.

सब मिलाकर देखें तो डायबिटीज में चाय पीने के अलावा मेटाबोलिक डाइट चार्ट के अनुसार भोजन करना कोई जटिल काम नहीं है. टाइप-2 डायबिटीज खानपान के लाइफस्टाइल की वजह से होती है. जब हम इससे बचाव की बात करते हैं तो डायबिटीज का मेटाबोलिक डाइट चार्ट काफी मददगार है. इसके अनुसार भोजन करने से आपको भरपूर मात्रा में पोलीफैनोल्स प्राप्त होंगे और आपका शरीर बेहतर तरीके से ब्लड शुगर को नियंत्रित कर पायेगा.

हाथ नीचे कीजिये. ऐसा भोजन खाइये जिसमें काफी मात्रा में पोलीफैनोल्स हो. जैसे लहसुन, चमकीले रंग की फल और सब्जियाँ. और डायबिटीज में चाय पीना – खासकर ग्रीन टी (हरी चाय) – उनलोगों के लिए महान आईडिया है, जो टाइप-2 डायबिटीज को विकसित होने से रोकना चाहते हैं या नियंत्रित करना चाहते हैं.

Comments

  1. Pingback: डायबिटीज को ख़त्म करने के सात प्राकृतिक उपाय

  2. Pingback: डायबिटीज में अपने पैरों की देखभाल कैसे करें? - Thinking Is A Job

आपकी क्या राय है? लिखने में संकोच न करें.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.