डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी अमृत समान है; वजन घटाकर दिल को स्वस्थ बनाता है कॉफ़ी.

डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी अमृत समान है

नियमित रूप से कॉफ़ी का सेवन करने से डायबिटीज होने का खतरा कम हो जाता है. इसलिए डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी का सेवन स्वास्थ्यवर्धक है. विशेषज्ञों के अनुसार प्रतिदिन ब्लैक या ग्रीन कॉफ़ी का सेवन करने से मधुमेह रोगियों के स्वास्थ्य में अभूतपूर्व सुधार होता है. कई अनुसंधानकर्ताओं ने डायबिटीज और कॉफ़ी के बीच के संबंध को उजागर करने के लिए अनुसन्धान किया है. अपने अनुसंधानों के द्वारा उन्होंने साबित किया है कि आप जितना अधिक कॉफ़ी पियेंगे, आपको डायबिटीज होने की संभावना उतनी ही कम होगी. और सबसे अधिक चौकाने वाली बात यह है कि कॉफ़ी पीने से पुरूषों की तुलना में महिलाओं को अधिक लाभ होता है.

जिन लोगों को कॉफ़ी पीना पसंद है उन्हें कॉफ़ी के बिना अपने दिन की शुरुआत करने में काफी परेशानी होती है. अगर आप कॉफ़ी पीना पसंद करते हैं तो शायद आप ही बता सकते हैं कि कॉफ़ी न मिलने पर आपको कैसा महसूस होता है. कॉफ़ी के बदले में आप चाहे कुछ भी पी लें, आपका मन संतुष्ट नहीं होगा. आपके संपर्क में कई ऐसे लोग होंगे जो कॉफ़ी को भोजन के साथ लेना पसंद करते हैं. कई लोग तो बनी हुई चाय में थोड़ी सी कॉफ़ी पाउडर मिलाकर पीते हैं.

एनडीटीवी पर लिखी गई एक खबर के मुताबिक, फोर्टिस हॉस्पिटल की डॉ. सिमरन सैनी का कहना है कि ग्रीन कॉफ़ी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड एक एन्टीओक्सिडेंट के रूप में काम करती है. क्लोरोजेनिक एसिड शरीर के वजन में सुधार करता है, उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है और हमारे शरीर में ब्लड शुगर के लेवल को कण्ट्रोल करता है.

डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी ब्लड शुगर नियंत्रित करता है.

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा, कॉफ़ी के सेवन से डायबिटीज के मरीजों का ब्लड शुगर नियंत्रित रहता है. इस तथ्य को कई अनुसन्धानकर्ताओं ने अपने अनुसंधानों के द्वारा साबित किया है. कॉफ़ी में मैग्नीशियम और क्रोमियम जैसे खनिज पदार्थ पाए जाते हैं. मैग्नीशियम और क्रोमियम हमारे शरीर को इन्सुलिन का उपयोग करने में मदद करते हैं. कौन नहीं जानता कि इन्सुलिन ही हमारे शरीर में ब्लड ग्लूकोज को नियंत्रित करता है?

नैदानिक ​​आहार विशेषज्ञ डॉ. रुपाली दत्ता के अनुसार, ब्लड में ग्लूकोज पहुँचने की गति को धीमा करने के लिए ग्रीन कॉफ़ी का सेवन आवश्यक है. डॉ. रुपाली का कहना है कि भोजन से पहले ग्रीन कॉफ़ी पीने से शरीर में बनने वाले ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद मिलती है.

इस संबंध में शिल्पा अरोरा (मैक्रोबायोटिक पोषण विशेषज्ञ और स्वास्थ्य प्रैक्टिशनर) का कहना है कि डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी पीना बिलकुल भी हानिकारक नहीं है. प्रतिदिन दो कप कॉफ़ी पीना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है. और वास्तव में कॉफ़ी पीने से डायबिटीज को नियंत्रित करने में काफी मदद मिलती है. कॉफ़ी एक उच्च मेटाबोलिक भोजन है जिसमें मैग्नीशियम और क्रोमियम पाया जाता है. मैग्नीशियम और क्रोमियम ब्लड शुगर को कम करने में बहुत लाभकारी है.

विडियो देखें: हरिद्वार में रहनेवाली अंजू जी से जानिये कि डायबिटीज के रोगियों के लिए कॉफ़ी ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में कितना मददगार है.

तो फिर आप क्या सोच रहे हैं? पैसे की चिंता नहीं है तो आगे बढ़ें और चीनी या किसी अन्य स्वीटनर के बिना, अपनी आई-कॉफी का आनंद लें.

अभी आर्डर करने के लिये यहाँ जाएँ : https://goo.gl/RS1B6K

Summary
डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी अमृत समान है; वजन घटाकर दिल को स्वस्थ बनाता है कॉफ़ी.
Article Name
डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी अमृत समान है; वजन घटाकर दिल को स्वस्थ बनाता है कॉफ़ी.
Description
क्या डायबिटीज के मरीजों के लिए कॉफ़ी अच्छा है? क्या कॉफ़ी आपका वजन घटा सकता है? क्या कॉफ़ी आपके हृदयरोग के लिए अच्छा है? पढ़िये इन सवालों के वैज्ञानिक जवाब.
Author
Publisher Name
Thinking Is A Job
Publisher Logo

आपकी क्या राय है? लिखने में संकोच न करें.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.