आयुर्वेदिक चिकित्सा में डायबिटीज के लिए सप्तरंगी

पारंपरिक भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा में, जड़ी-बूटी सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) मधुमेह के इलाज में मदद कर सकती है. एक अध्ययन की रिपोर्ट के अनुसार मधुमेह के इलाज के लिए परंपरागत भारतीय चिकित्सा में इस्तेमाल की जाने वाली जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल दवाओं की तरह एक तरह से रक्त शर्करा और इंसुलिन के स्तर को कम करता है. शोधकर्ताओं ने 39 स्वस्थ वयस्कों को जड़ी-बूटी सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) के अर्क दिए, और परिणाम आशाजनक थे. जड़ी-बूटी की सबसे बड़ी खुराक 1,000 मिलीग्राम की थी. इंसुलिन और रक्त ग्लूकोज के स्तर में क्रमशः 29 और 23 प्रतिशत की गिरावट आई.

ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी में एक अध्ययन के सह-लेखक और पोषण के एक सहायक प्रोफेसर स्टीव हर्ट्ज़लर ने कहा, "इस प्रकार की कटौती हम मधुमेह वाले लोगों के लिए तभी संभव होता है जब डॉक्टर के द्वारा दी गई प्रिस्क्रिप्शन की दवाओं का सेवन किया गया हो."

भारत और श्रीलंका के क्षेत्रों का मूल निवासी सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा), शरीर में कार्बोहाइड्रेट को तोड़ने वाले आंतों के एंजाइम्स से बांधता है. ये एंजाइम, अल्फा-ग्लूकोसिडेस कहलाते हैं. ये कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में बदल देते हैं, वही ग्लूकोज जो शरीर भर में फैलता है. यदि एंजाइम कार्बोहाइड्रेट की बजाय हर्बल अर्क से जुड़ा होता है, तो रक्त प्रवाह में कम ग्लूकोज जाता है, जिससे ब्लड शुगर और इंसुलिन का स्तर कम हो जाता है.

Sponsored

"ब्लड शुगर का स्तर कम करने से मधुमेह वाले लोगों में बीमारी से संबंधित जटिलताओं का खतरा कम हो जाता है," हर्ट्ज़लर ने कहा. "इसके अलावा, मधुमेह की दवाओं के साथ खराब अनुपालन अक्सर इन दवाओं की प्रभावशीलता को बाधित करता है. अगर कोई व्यक्ति गोली के विरोध में है तो जड़ी-बूटी को भोजन या पेय पदार्थ में लेना आसान हो सकता है."

सप्तरंगी पर यह अध्ययन अमेरिकन डाइटेटिक एसोसिएशन के
जर्नल के एक अंक में प्रकाशित हुई थी.

उनचालीस स्वस्थ वयस्कों ने चार अलग-अलग भोजन सहिष्णुता परीक्षणों में भाग लिया. ये भोजन, जो पेय के रूप में दिए गए थे, तीन से चौदह दिनों के बीच विभाजित करके दिए गए थे. प्रत्येक भागीदार ने परीक्षण पेय लेने से कम से कम 10 घंटे पहले से उपवास किया.

प्रतिभागियों को दो कप के बराबर ठंडा पेय पीने के लिए कहा गया, जिसमें सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) के शून्य, 500, 700 या 1,000 मिलीग्राम अर्क थे. इसके बाद, शोधकर्ताओं ने तीन घंटे तक हर 15 से 30 मिनट के लिए हर व्यक्ति के रक्त के नमूनों को इकठ्ठा करने के लिए उंगली-प्रिक विधि का इस्तेमाल किया. इन रक्त के नमूनों का इस्तेमाल इंसुलिन और रक्त ग्लूकोज सांद्रता को निर्धारित करने के लिए किया गया था. रक्त ग्लूकोज और इंसुलिन के स्तर में सबसे बड़ा बदलाव आम तौर पर खाने के बाद पहले दो घंटों के भीतर होता है.

वह पेय जिसमें हर्बल अर्क की सबसे अधिक एकाग्रता थी - 1,000 मिलीग्राम - इंसुलिन और रक्त ग्लूकोज के स्तर में सबसे अधिक नाटकीय कमी का प्रदर्शन किया. इंसुलिन का स्तर 29 प्रतिशत कम था, जबकि नियंत्रण में हर्बल अर्क पीने पर जिसमें हर्बल अर्क नहीं था उसके मुकाबले रक्त शर्करा का स्तर 23 प्रतिशत कम था.

चूंकि सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) आंतों में गैस पैदा कर सकता है, इसलिये शोधकर्ताओं ने पेय पदार्थ पीने के बाद आठ घंटे तक प्रतिभागियों के सांस हाइड्रोजन नमूनों को अध्ययन करने के लिए इकट्ठा करने को कहा. प्रतिभागियों ने छोटे प्लास्टिक ट्यूबों में अपनी सांस एकत्र की. शोधकर्ताओं ने तब हाइड्रोजन और मीथेन सामग्री के लिए इन सांस नमूनों का विश्लेषण किया - श्वास में पदार्थ का स्तर बृहदान्त्र में निहित स्तर से मेल खाती पाई गई.

प्रत्येक परीक्षण भोजन लेने के दो दिनों के बाद भी शोधकर्ताओं ने मतली, पेट की ऐंठन और गैस की आवृत्ति और तीव्रता का मूल्यांकन किया.

हर्ट्ज़लर ने कहा, “जबकि सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) युक्त परीक्षण वाले पेय लेने के बाद सांस हाइड्रोजन उत्सर्जन में वृद्धि हुई, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल असुविधा की रिपोर्ट कम थी.”

फिलहाल वह और उनके सहकर्मी यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि इस जड़ी-बूटी की कौन सी खुराक सबसे अधिक प्रभावी है, और इसे भोजन के सापेक्ष में कब लिया जाना चाहिए.

"हम यह जानना चाहते हैं कि कार्बोहाइड्रेट को तोड़ने वाले एंजाइमों को बाध्य करने के लिए इस जड़ी-बूटी को कितना समय लगता है," हर्ट्ज़लर ने कहा. "इस अध्ययन में प्रतिभागियों ने जड़ी-बूटियों को अपने भोजन में ले लिया था, लेकिन खाने से पहले इसे लेना भी अधिक प्रभावी होगा."

शोधकर्ता मधुमेह से पीड़ित लोगों में भी सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) के प्रभाव का अध्ययन करना चाहते हैं. "कई अध्ययनों से पता चलता है कि रक्त शर्करा के स्तर को कम करने से सभी प्रकार की मधुमेह संबंधी जटिलताओं, जैसे कि किडनी की बीमारी और तंत्रिका और आंखों की क्षति, के लिए जोखिम कम हो जाता है", हर्ट्ज़लर ने कहा. "हम यह देखना चाहते हैं कि इस जड़ी-बूटी में इस प्रकार का प्रभाव है या नहीं."

संयुक्त राज्य अमेरिका में सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) मिलना अभी भी अपेक्षाकृत मुश्किल है, हर्ट्ज़लर ने कहा, हालांकि यहां ऐसे निर्माता हैं जो इंटरनेट के माध्यम से जड़ी बूटी बेचते हैं.

कोलंबस के एबॉट लेबोरेटरीज के रॉस उत्पाद डिवीजन द्वारा इस अध्ययन का समर्थन किया गया था. हर्ट्ज़लर एबॉट लेबोरेटरीज के रॉस उत्पाद डिवीजन के साथ मिलकर सप्तरंगी (सलेसिया ओबलोंगा) का अध्ययन कर रहे हैं. इस संबंध के अलावा कंपनी के साथ उनका कोई और संबंध नहीं है.

सप्तरंगी

हर्ट्ज़लर ने पूर्व ओहियो राज्य सहयोगी पेट्रीसिया हैकॉक, जो अब न्यू जर्सी के स्टेट यूनिवर्सिटी रटगेर्स में है; जेनिफर विलियम्स, रॉस उत्पाद प्रभाग के साथ एक नैदानिक ​​वैज्ञानिक, एबॉट लेबोरेटरीज; और ब्रायन वुल्फ, रॉस उत्पाद डिवीजन के साथ एक पूर्व शोध वैज्ञानिक इत्यादि के साथ काम किया.

आपकी क्या राय है? लिखने में संकोच न करें.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.