क्या चीनी खाने से आपको डायबिटीज हो सकता है? चीनी खाएँ या नहीं?

क्या चीनी खाने से डायबिटीज होता है

अगर आप चीनी या मीठा खाते हैं तो आपको कई लोगों ने सलाह दी होगी कि आप इतना मीठा न खाएँ वरना आपको डायबिटीज हो सकता है. ऐसा सुनकर कई बार लोग सोच में पड़ जाते हैं कि क्या मीठा खाने से डायबिटीज होगा? आपको क्या लगता है? क्या सचमुच ऐसा होता है?

अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैं तो आपको सचमुच चीनी का उपभोग कम कर देना चाहिए. लेकिन, क्या अधिक मीठा खाने से सचमुच डायबिटीज हो सकता है? क्या आपके मीठा खाने की आदत आपके टेस्ट रिजल्ट को खट्टा कर सकती है? इस सवाल का जवाब जानने के लिये इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें.

चीनी क्या है?

सब्जियों, फलों और दुग्ध उत्पादों में प्राकृतिक रूप से चीनी पाई जाती है. जब हम इन चीज़ों को प्रत्यक्ष रूप से खाते हैं तो हम उनमें पाए जाने वाले शुगर का उपभोग करते हैं. कुछ लोग सब्जियों, फलों और दुग्ध उत्पादों को भोजन या पेय पदार्थ में मिलाकर उपभोग करते हैं.

हमारे चाय या पेय पदार्थों में मिलाई जानेवाली चीनी को एडेड शुगर के नाम से जाना जाता है. एडेड शुगर कई रूप में पाए जाते हैं:

  • टेबल शुगर: टेबल शुगर का प्रयोग प्रायः चाय बनाने में किया जाता है.
  • महीन सफेद चीनी: इस प्रकार के सुपरफाइन शुगर का प्रयोग नाश्ता तैयार करने में किया जाता है.
  • छिपी हुई चीनी: छिपी हुई चीनी खाने के लिए तैयार भोजन, केक और चटनी में पाया जाता है.

डायबिटीज में चीनी का उपयोग

किताबों में यही लिखा है और अधिकतर लोग यही मानते हैं कि डायबिटीज दो तरह का होता है – टाइप-1 डायबिटीज और टाइप-2 डायबिटीज. दोनों तरह के डायबिटीज के बीच का अंतर सरल शब्दों में इस प्रकार समझें. टाइप-1 डायबिटीज से पीड़ित मरीजों का इम्यून सिस्टम उनकी इन्सुलिन उत्पादन करनेवाली कोशिकाओं को नष्ट कर देती है. जबकि टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित मरीजों का शरीर पैंक्रियाज के द्वारा उत्पादन होने वाले इन्सुलिन का प्रयोग करने में सक्षम नहीं होता है. और एक बात जो यहाँ पर स्पष्ट कर देना जरुरी है वो यह है कि इनमें से किसी भी तरह की डायबिटीज चीनी खाने से नहीं होती है.

टाइप-2 डायबिटीज होने की घटना को मोटापा से जोड़ा जाता है. मोटापा आसन्न जीवनशैली, जंक फ़ूड खाने और कई अन्य वजहों के कारण हो सकता है. इस प्रकार के डायबिटीज को अप्रत्यक्ष रूप से शुगर खाने से जोड़कर देखा जाता है. अप्रत्यक्ष रूप से शुगर खाने का मतलब है कि आप जंक फ़ूड और चीनी वाले पेय पदार्थों का सेवन कर रहे हों.

इसलिये, अगर आप ऐसे जंक फ़ूड खाते हैं जिनमें चीनी से भरे पेय शामिल हैं तो आप मोटे बनकर टाइप-2 डायबिटीज के जोखिम को निश्चित रूप से बढ़ाते हैं. लेकिन टाइप-2 डायबिटीज एक बहुत ही जटिल बीमारी है. चीनी इसके लिए एकमात्र जिम्मेदार कारण नहीं है.

जरुर पढ़ें: इन्सुलिन हमारे शरीर पर क्या असर डालती है?

क्या डायबिटीज से पीड़ित मरीज़ चीनी खा सकते हैं?

अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैं तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप चीनी का प्रयोग बिलकुल बंद कर दें. यदि आप अपने स्वस्थ और संतुलित भोजन में थोड़ी सी चीनी शामिल करते हैं तो इससे कोई समस्या नहीं होगी. एक सत्य यह भी है कि कुछ लोगों के लिए, ग्लूकोज की गोलियां हाइपो के इलाज के लिए आवश्यक होती हैं. हाइपो उस स्थिति को कहा जाता है जब आपके रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम हो जाता है. ऐसा तब होता है जब आप मधुमेह की दवा, व्यायाम और खाने वाले भोजन के बीच संतुलन नहीं कर पाते हैं.

बहुत अधिक चीनी खाने से आप मोटे हो सकते हैं, जो बदले में कई अन्य बीमारियों का कारण बन सकता है. अगर आप पहले से ही मोटे हैं तो अपने नाश्ते के बदले इस सप्लीमेंट (आई-स्लिम) का प्रयोग कर सकते हैं.

चीनी का सामान्य सेवन कितना होना चाहिए?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि एक सामान्य बीएमआई वाले वयस्क को प्रतिदिन 6 चम्मच चीनी का सेवन करना चाहिए.

व्यक्तिगत अनुभव: पिछले साल जब मैं डायबिटीज के सबसे सफल उपचार का ऑनलाइन प्रचार कर रहा था तो सैकड़ों लोगों ने उस उपचार को अपनाया. प्रचार में साफ़-साफ़ अक्षरों में लिखा था – “अब जड़ से ख़त्म होता है डायबिटीज”.

जिन लोगों को मेरे प्रचार पर भरोसा नहीं था उन्होंने मुझसे कई सवाल पूछे. कई लोगों ने पहला सवाल यही पूछा कि क्या वे ठीक होने के बाद मीठा अर्थात चीनी से बनी चीज़ें खा सकते हैं या नहीं. मेरा सीधा सा जवाब होता था – ठीक होने के बाद आप रसगुल्ला खाकर अपना ब्लड शुगर चेक करेंगे तो भी आपका ब्लड शुगर नार्मल ही आएगा. और हमारे प्राकृतिक उपचार का छः महीने तक पालन करने के बाद ऐसा ही होता है.

अगर आप भी बिना किसी अंग्रेजी दवा के डायबिटीज से मुक्ति पाना चाहते हैं तो बिना झिझक हमसे बात करें. हमारे उपचार से आपको छः महीने में डायबिटीज से मुक्ति मिल जायेगी.

The Magic Pill Documentry by Celebrity Chef Pete Evans

The Magic Pill

An Australian documentary film titled The Magic Pill claims that a high-fat, low-carb diet can prevent and even cure illnesses like cancer, diabetes, heart disease, and autism. The Magic Pill is a film released by celebrity chef Pete Evans.

The documentary released by the superstar chef Pete Evans recommends that the majority of chronic diseases exist due to the modern diet. This is the very thought in the film that has got hammered by commentators. The critics are blaming the film for selling “destructive” thoughts.

For the purpose of investigating the effect of the ketogenic diet on the symptoms of different diseases, the film studies people in America and Australia suffering from different ailments.

The ketogenic, or keto diet, is said to be a high-fat and low-carb diet. It is believed that a keto diet helps our body to use fat for fuel instead of carbs.

5 Keto Diet Tips from The Magic Pill Film

The general population featuring in the movie was asked to follow a diet based on a keto diet standards. These keto diet principles include the following 5 guidelines:

  1. Replace bad fats with healthy fats.
  2. Try to consume free-range animals and wild caught seafood.
  3. Add bone broths, organ meats, fermented foods, and intermittent fasting into your diet.
  4. Always eat whole and organic foods.
  5. Avoid processed foods, dairy, grains, and legumes.

Criticism of The Magic Pill

The president of the Australian Medical Association, Michael Gannon, hammered and criticised the film. Gannon announced that the film is hurtful, harmful and mean.

On behalf of Michael Gannon, the Daily Telegraph reports, “The possibility that a high-fat diet can change a youngster’s conduct in a month is simply so obviously strange … but then the fact of the matter is that the guardians of mentally unbalanced kids (autistic children) are so frantic that they will go after anything.”

The criticism of the film, The Magic Pill, comes partly from the confusion created by some news outlets covering the film. These news outlets called the keto diet a paleo diet.

Experts say, “While keto has paleo standards, keto is completely high-fat, however not really high-protein like paleo. A lot of protein changes into glucose in the body, which removes your ketosis.”

Criticism of the Critics of “The Magic Pill”

BANANIAC uploaded a video titled “The Magic Pill Debunked by Nutritionist | The Truth About Keto Diets” on their YouTube Channel. Watch the Video below and read what David Brown has to say about this, just below the video.

Rapidly listing a bunch of things you think are true does not constitute “debunking” something. I think this nutritionist doesn’t really know what he is talking about.

I appreciate that he acknowledged the fact that the film, The Magic Pill, emphasized whole foods and staying away from processed foods.

But let’s look at the typical claims found in his video:

1. Low-carb diets result in higher all-cause mortality.
The study he quickly shows is a meta-analysis of several observational studies on macronutrients and long term mortality.

First- it is a meta-analysis of observational studies. Observational studies cannot establish cause and effect. They can only lead to questions to be studied further in different types of studies designed to actually establish cause and effect. So from the start, we should acknowledge that these studies cannot show a causal relationship between low-carb diets and increased mortality.

Second, these studies in the analysis varied tremendously in how they defined “low-carb.” Most defined “low-carb” as getting 25-35% of calories from carbs. And that is totally different from a ketogenic diet. In keto, people usually take in 5-10% of their calories in carbs. So apples and oranges, folks. And also- most of the “low-carb” diets were high protein. And a keto diet is not a high protein diet. Keto diets usually include about 15-20% of calories from protein.

Again- not a high protein diet.  So all in all, this is a really bad meta-analysis to use if you are claiming that a ketogenic diet results in increased mortality.  It shows nothing like that.

2. He appropriately claims that weight loss itself along with calorie restriction will usually result in improved cholesterol levels. I guess he is not familiar with all the studies evaluating the low-carb/high-fat diet where these subjects consume food on an ad lib basis- in other words they can eat as much as they want.

Or the studies showing tremendous metabolic benefits with the keto diet independent of weight loss. So this is a fail too.

3. He references Shawn Baker and says that Baker only eats meat. This, again, is nothing close to a ketogenic diet.

4. He claims that having an LDL of 140 mg/dL is “lethal.” Wow. That is absolute craziness. Such an insane way to make health predictions – one simple lab value independent of anything other context. He has an extremely limited view of cardiac risks and lipidology.

5. He also says that it is “proven” that saturated fat causes diabetes. The fact that he uses the word “proven” shows he doesn’t really understand the scientific literature. Anybody who does wouldn’t use that word.

To support this claim – he shows a paper looking at resolution of type II diabetes after bariatric surgery. In no way, shape, or form does this paper support his claim.

6. He cites the paper on vegan diet and improvement of blood glucose. The investigators created a list of whole foods that the subjects could eat and had them eat low-glycemic index foods. These subjects were obese and diabetic to begin with. And they saw lower blood glucose levels when they went with low glycemic foods.

WOW. Could we not predict that? And doesn’t that go against the claim that it is saturated fat that causes type II diabetes?

I can go on and on.  But suffice it to say is that this gentlemen joins a long list of vegan propagandists who do not understand scientific literature and shouldn’t be posting these videos making claims that apparently know little about.

Thus, David Brown writes 6 points to prove that the video review by BANANIAC has failed to prove its point that The Magic Pill film has been debunked.

How to Prevent Diabetes Naturally without Side Effects?

Evidence Based Ways to Prevent Diabetes

Diabetes is an unending disease that influences a great many individuals around the world. Uncontrolled cases of diabetes can cause blindness, kidney failure, coronary artery illness and different genuine conditions. So here comes an Evidence Based Guide to prevent diabetes.

Before you get diagnosed as a diabetes patient, there is a time when glucose levels are high yet not sufficiently high to be analysed as diabetes. This is known as prediabetes.

It’s assessed that up to 70% of individuals with prediabetes go ahead to create type 2 diabetes.

In the event that you have diabetes, your glucose levels must be too high. With type 2 diabetes, this happens in light of the fact that your body does not make enough insulin, or it doesn’t utilize insulin well. This is called insulin resistance. On the off chance that you are in danger of type 2 diabetes, you may have the capacity to counteract or prevent diabetes.

Luckily, advancing from prediabetes to diabetes isn’t inescapable. You can help diminish your danger of type 2 diabetes by understanding your risk and rolling out improvements to your way of life.

Despite the fact that there are sure factors you can’t change — for example, your qualities, age or past practices — there are numerous moves you can make to decrease the danger of diabetes.

If you don’t have enough time to read this guide till end, you can watch the video below to have a quick look on the seven tips to prevent diabetes.

7 Evidence Based Ways to Prevent Diabetes.

1. Limit Your Intake of Processed Foods.

Limiting processed foods and concentrating on entire nourishments with defensive effects for wellbeing may help diminish the danger of diabetes.

One clear move you can take to enhance your wellbeing is to limit your utilization of processed foods. They’re connected to a wide range of medical issues, including coronary illness, weight and diabetes.

Studies recommend that decreasing packaged foods that are high in vegetable oils, refined grains and added substances may help lessen the danger of diabetes. This might be partly because of the defensive impacts of entire nourishments like nuts, vegetables, fruits and leafy food plants.

So, keep watching your habit of consuming processed foods if you are paining to prevent diabetes.

REFERENCES:

2. Avoid Sugar and Refined Carbs .

Eating foods high in refined carbs and sugar expands glucose and insulin levels, which may prompt diabetes after some time. Maintaining a strategic distance from these foods may help diminish your hazard and prevent diabetes.

Eating sugary nourishments and refined carbs can put in danger people on the road to success of developing diabetes. Your body quickly separates these nourishments into little sugar molecules, which are retained into your circulatory system.

The subsequent rise in glucose invigorates your pancreas to create insulin, a hormone that enables sugar to escape the circulation system and into your cells.

In individuals with prediabetes, the body’s cells are resistant to insulin’s activity, so sugar stays high in the blood. To adjust, the pancreas delivers more insulin, endeavouring to convey glucose down to a sound level.

After some time, this can prompt logically higher glucose and insulin levels, until the point that the condition in the long run transforms into type 2 diabetes.

Numerous investigations have demonstrated a connection between the frequent utilization of sugar or refined carbs and the danger of diabetes. Likewise, supplanting them with nourishments that have less of an impact on glucose may help diminish your hazard.

A point by point examination of 37 studies found that individuals with the highest intakes of quick processing carbs were 40% more inclined to create diabetes than those with the least intakes.

REFERENCES:

 

3. Work Out Routinely.

Performing physical action all the time can expand insulin secretion and sensitivity, which may help keep the movement from prediabetes to diabetes. In short, exercise daily to prevent diabetes.

Performing physical action all the time may help prevent diabetes.

Exercise builds the insulin affectability of your cells. So when you work out, less insulin is required to monitor your glucose levels.

One investigation in individuals with prediabetes found that moderate-intensity exercise expanded insulin affectability by 51% and high-intensity exercise expanded it by 85%. In any case, this impact just happened on exercise days.

Numerous kinds of physical action have been appeared to lessen insulin resistance and glucose in overweight, stout and prediabetic grown-ups. These incorporate oxygen consuming activity, high-power interval training and quality strength training.

Working out more habitually appears to prompt changes in insulin reaction and capacity. One examination in individuals in danger of diabetes found that consuming in excess of 2,000 calories weekly by means of activity was required to accomplish these advantages.

Accordingly, it’s best to pick physical activity that you appreciate, can take part in routinely and feel you can stay with long haul.

REFERENCES:

4. Drink Water as Your Essential Refreshment.

Drinking water rather than different refreshments may help control glucose and insulin levels, while lessening the danger of diabetes. So, drink enough water to prevent diabetes.

Water is by a wide margin the most normal refreshment you can drink. Click To Tweet

Also, staying with water more often not causes you evade drinks that are high in sugar, additives and other faulty fixings.

Sugary drinks like soda and punch have been connected to an expanded danger of both type 2 diabetes and latent autoimmune diabetes of adults (LADA).

Specialists of one investigation on the impacts of sweet beverages on diabetes expressed that neither misleadingly sweetened drinks nor organic product juice were great refreshments for diabetes prevention.

Consuming water may give benefits. A few examinations have discovered that expanded water utilization may prompt better glucose control and insulin reaction.

REFERENCES:

5. Lose Weight In case You’re Overweight or Stout.

Having excess fat, especially in the stomach territory, improves the probability of creating diabetes. Getting thinner may altogether decrease the danger of diabetes.

In spite of the fact that not every person who has type 2 diabetes is overweight or fat, the majority of people are fat.

Likewise, those with prediabetes tend to have excess weight in their midsection of the body and around stomach organs like the liver. This is called visceral fat.

Abundant visceral fat causes inflammation and insulin resistance, which essentially accelerate the danger of diabetes.

Despite the fact that losing even a little measure of weight can help decrease this hazard, researches convey that the more you lose, the more advantages you’ll encounter.

There are numerous solid choices for getting in shape, including low-carb, Mediterranean, paleo and vegan diets. Be that as it may, picking a method for eating you can stay with long haul is vital to helping you keep up the weight reduction.

If you have taken an oath to prevent diabetes, try the most trusted way of weight management : Indus Viva i-Slim for Weight Managemnt.

REFERENCES:

6. Stay away from Inactive Sedentary Behaviours :

Keeping away from stationary practices like unreasonable sitting has been proved to decrease your danger of getting diabetes.

It’s critical to abstain from being stationary on the off chance that you need to prevent diabetes.

In the event that you get no or next to no physical action, and you sit amid the greater part of your day, at that point you lead an inactive way of life.

Observational investigations have demonstrated a steady connection between inactive sedentary behaviours and the danger of diabetes.

Changing stationary conduct can be as basic as standing up from your work area and strolling around for a couple of minutes consistently.

Lamentably, it can be difficult to invert solidly settled habits.

Set sensible and achievable objectives, for example, standing while at the same time chatting on the telephone or taking the stairs rather than the lift. Focusing on these simple, solid activities might be the most ideal approach to switch inactive sedentary behaviours.

REFERENCES:

7. Drink Coffee or Tea :

Drinking coffee or tea may help lessen glucose levels, increase insulin affectability and diminish the danger of diabetes.

Despite the fact that water ought to be your essential drink, research recommends that incorporating coffee or tea in your eating regimen may enable you to maintain a strategic distance from diabetes.

Studies suggest that drinking coffee once a day decreases the danger of type 2 diabetes by 8– 54%, with the greatest effect generally seen in people with the highest consumption.

Indus Viva i-Coffee with Creamer for Diabetes is a herbal medicine in the form of a coffee without any side effects.

What’s more, green tea contains one of a kind of cancer prevention agent compound called epigallocatechin gallate (EGCG) that has appeared to diminish glucose discharge from the liver and increase insulin affectability.

REFERENCES:

HAVE A LOOK AT – THESE HERBAL MEDICINES

Take These Natural Herbs to Prevent Diabetes

There are a couple of herbs that may help expand insulin affectability and lessen the probability of developing diabetes.

The herbs curcumin and berberine increase insulin affectability, decrease glucose levels and may help counteract or prevent diabetes.

Curcumin

Curcumin is a segment of the splendid gold spice turmeric, which is one of the principle ingredients in curries. It has solid mitigating properties and has been utilized in India for quite a long time as a component of Ayurvedic medicine.

Berberine

Berberine is found in a few herbs and has been utilized as a part of traditional Chinese medication for a huge number of years. Since berberine works by expanding insulin affectability and lessening the arrival of sugar by the liver, it may hypothetically assist individuals with prediabetes stay away from diabetes.

Since its impacts on glucose are so solid, it ought not to be utilized as a part of conjunction with different diabetes drugs unless approved by a specialist.

REFERENCES:

Dabur GlycoDab Tablets for Diabetes – ग्लाइकोडैब टैबलेट

Dabur GlycoDab Tablets for Diabetes

डाबर इंडिया लिमिटेड ने आयुर्वेदिक विज्ञान अनुसंधान केंद्र (सीसीआरएएस), आयुष मंत्रालय, भारत सरकार के सहयोग से मधुमेह के प्रबंधन के लिए ग्लाइकोडैब टैबलेट (‘GlycoDab Tablets’) लॉन्च किया है. पारंपरिक आयुर्वेद के साथ भारत में मधुमेह के बढ़ते खतरे के खिलाफ डाबर इंडिया लिमिटेड और आयुष मंत्रालय ने अपनी लड़ाई में हाथ मिला लिया है.

आयुर्वेद के पारंपरिक ज्ञान को एक समकालीन हेल्थकेयर विकल्प में बदलने के अपने मिशन के हिस्से के रूप में, दुनिया के सबसे बड़े विज्ञान आधारित आयुर्वेद कंपनी डाबर इंडिया लिमिटेड ने सीसीआरआरएएस (CCRRAS – आयुष मंत्रालय, भारत सरकार) के साथ साझेदारी में एक क्रांतिकारी और सफल उत्पाद “डाबर ग्लाइकोडैब टैबलेट” (‘GlycoDab Tablets’ – आयुष 82) की शुरुआत की घोषणा की.

ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) लॉन्च करने की घोषणा करते हुए, कंपनी के मार्केटिंग के प्रमुख डॉ. दुर्गा प्रसाद वेलिडिंडी ने कहा कि यह उत्पाद नैदानिक ​​अध्ययन और वैज्ञानिक प्रयोगों द्वारा समर्थित है.

एक हज़ार डायबिटीज से पीड़ित रोगियों के नैदानिक ​​अध्ययन से पता चला है कि ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets – आयुष 82) उपवास और भोजन के बाद के रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है. नैदानिक उपचार के चौबीस सप्ताह बाद उन रोगियों में ​​सुधार दर्ज किया गया है.

डॉ. प्रसाद ने कहा कि भारत उन शीर्ष तीन देशों में से एक है जिसमें मधुमेह से पीड़ित मरीजों की आबादी ज्यादा है. शायद आपको मालूम होगा कि वर्ष 2015 में भारत में मधुमेह के 69.1 मिलियन मामले पाए गए थे.

ऑनलाइन आर्डर करने के लिये यहाँ जाएँ : AMAZON.COM

ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) मधुमेह के रोगियों के लिए एक क्रांतिकारी और सफल उत्पाद है.

डायबिटीज के क्षेत्र में डाबर इंडिया लिमिटेड ने इससे पहले भी डाबर मधुरक्षक लांच किया था. हालाँकि, इस क्षेत्र में कंपनी के द्वारा लांच किया गया यह दूसरा उत्पाद (प्रोडक्ट) है. यह नया उत्पाद (GlycoDab Tablets) प्राचीन भारतीय आयुर्वेद के ज्ञान और विज्ञान के अत्याधुनिक ज्ञान के साथ बनाया गया एक और बड़ा आविष्कार है और यह मधुमेह को हराने के लिए तैयार हर्बल भलाई का एकदम सही मिश्रण साबित होगा.

भारत में मरीजों ने चिकित्सा हस्तक्षेप के रूप में हर्बल और वनस्पति निष्कर्षों को प्राथमिकता दी. डॉ. दुर्गा प्रसाद वेलिडिंडी ने कहा कि डाबर कुछ अन्य आयुर्वेद उत्पादों के व्यावसायीकरण के लिए मंत्रालय के साथ काम कर रहा है.

ऑनलाइन आर्डर करने के लिये यहाँ जाएँ : AMAZON.COM

ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) डायबिटीज में ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है और प्री-डायबिटीज रोगियों की सहायता करता है. मधुमेह के प्रभावी प्रबंधन के लिए विकसित सबसे उन्नत उत्पाद को आगे बढ़ाने के लिए उस उत्पाद का कई नैदानिक ​​अध्ययन और वैज्ञानिक प्रयोग किया जाता है.

डाबर डॉट कॉम के अनुसार आयुर्वेद की एक समृद्ध विरासत और प्रकृति के गहरे ज्ञान के साथ, डाबर ने हमेशा प्रामाणिक आयुर्वेद पांडुलिपियों के अध्ययन के माध्यम से सभी के लिए सुरक्षित, लागत प्रभावी और प्रभावी स्वास्थ्य देखभाल पर ध्यान केंद्रित किया है.

नए क्रांतिकारी उत्पाद डाबर ग्लाइकोडैब (GlycoDab Tablets) गोलियों के माध्यम से, डाबर इंडिया लिमिटेड वर्तमान में भारत में सबसे हानिकारक गैर-संवादात्मक रोग का मुकाबला करने का प्रयास कर रहा है.

डाबर ग्लाइकोडैब टैबलेट (GlycoDab Tablets) में क्या है?

डाबर ग्लाइकोडैब (GlycoDab Tablets) एक आयुष 82 (टैबलेट फॉर्म में) है जिसे सीसीआरएएस, भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है. डाबर ग्लाइकोडैब में चार शक्तिशाली जड़ी-बूटियां हैं:

  1. आम्रबीज,
  2. जंबू बीज,
  3. करेला,
  4. गुड़मार की पत्तियां.

डाबर ग्लाइकोडैब (GlycoDab Tablets) को जड़ी बूटियों के अर्क लेकर एक सुविधाजनक खुराक के रूप में टैबलेट के फॉर्म में तैयार किया गया है. यह 100% आयुर्वेदिक है जो स्वस्थ जीवन को प्रबंधित करने में मदद करता है.

डॉ. दुर्गा प्रसाद वेलिडिंडी ने कहा है कि गोलियों को चिकित्सकीय पर्यवेक्षण के तहत ब्लड शुगर का स्तर 200 रहने पर दिन में दो बार लिया जाना चाहिए.

ऑनलाइन आर्डर करने के लिये यहाँ जाएँ : AMAZON.COM

Indus Viva i-Slim for Weight Management

Indus Viva i-Slim for Weight Management

अधिक वजन और मोटापे को मधुमेह, उच्च रक्तचाप और डिस्प्लिडेमिया सहित इंसुलिन प्रतिरोध और चयापचय असामान्यताओं के बीच का लिंक माना जाता है. इनमें से सभी कोरोनरी आर्टरी डिजीज के लिए जोखिम कारक हैं. इसलिए प्रस्तुत है एफबी-3 फॉर्मूला जापान के आधार पर भारत का पहला उत्पाद जिसका नाम है – आई स्लिम (i-Slim).

हाल के अध्ययनों में, कमर से हिप अनुपात द्वारा किये गए मूल्यांकन में पेट की मोटापा ने मायोकार्डियल इंफार्क्शन के साथ एक मजबूत सहयोग दिखाया.

मोटापे को उच्च रक्तचाप के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक भी माना जाता है. मोटापे के सूचकांक और सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप के बीच एक महत्वपूर्ण सहसंबंध है.

आई स्लिम (i-Slim) पाउडर एफबी-3 द्वारा पैक की गई शक्ति है, जो अग्नाशयी लिपेज एंजाइम को प्रभावी रूप से बाधित करने के लिए साबित ट्रैक के साथ एक अमेरिकी पेटेंट संरचना है, जिसके परिणामस्वरूप मोटापे में वजन घटाने और प्रबंधन में कमी आती है.

i-Slim आर्डर करने के लिए यहाँ जाएं : नंदन वर्मा की ऑनलाइन शॉप

सोया आईएसओ फ्लैवानोइड्स की संरचना, और मट्ठा केंद्रित एफबी-3 गतिविधि में वृद्धि, आई स्लिम (i-Slim) को वजन प्रबंधन के लिए सबसे अच्छा समाधान बनाता है. आवश्यक विटामिन और खनिज, एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि और तेजी से सेलुलर रिजनरेशन में सुधार करता है.

आई स्लिम (i-Slim) में एफबी-3 है.

अमेरिकन मेडिकल होल्डिंग्स और बायो एक्टिव्स जापान के. के. ने मिलकर एक नया घटक एफबी-3 लॉन्च किया है, जो तीन वनस्पतियों का मिश्रण है और जो आहार वसा के अवशोषण को रोकता है. एफबी-3 कोलस फोर्स्कोहली, सालाशिया रेटिकुलाटा और सेसमम इंडिकम का एक मालिकाना मिश्रण है, जिसे क्रमशः डाइटरपीन फोर्स्कोलिन, कोटनॉल और सैलासिनोल और सेस्मीन के लिए मानकीकृत किया गया है.

व्यक्तिगत रूप से, इन घटकों में से प्रत्येक को अलग-अलग डिग्री और गतिशीलता के साथ वसा अवशोषण को बाधित करने के लिए दिखाया गया है.

आई स्लिम (i-Slim) में सालाशिया रेटिकुलाटा है.

सालाशिया रेटिकुलाटा रूट एक्सट्रेक्ट ने पारंपरिक आयुर्वेदिक दवा में एंटी-डाइबेटिक जड़ी बूटी के रूप में अल्फा ग्लूकोसिडेज़ पर स्थापित अवरोधक कार्रवाई के साथ एक भूमिका निभाई है. वास्तव में सालाशिया रेटिकुलाटा रूट एक्सट्रेक्ट एक एंजाइम है जो अतिरिक्त आहार चीनी के अवशोषण को रोकता है. सालाशिया रेटिकुलाटा में वसा को अवरुद्ध करने की क्षमता प्रतीत होती है और यह भोजन के बाद लिपिड अवशोषण की दर को कम कर सकती है.

आई स्लिम (i-Slim) में सेसमम इंडिकम सीड एक्सट्रेक्ट है.

तिल के बीज से प्राप्त होनेवाले सेसमम इंडिकम सीड एक्सट्रेक्ट भी  यह गतिविधि भी शुरू करता है. यह सुपरफूड भी प्रोटीन का एक समृद्ध स्रोत है और कई आवश्यक खनिजों का भंडार है जो स्वस्थ कार्डियोवैस्कुलर और परिसंचरण कार्यों का समर्थन करते हैं.

आई स्लिम (i-Slim) में कोलस फोर्स्कोहली है.

कोलस फोर्स्कोहली वजन प्रबंधन का समर्थन करने के लिए सबसे अच्छी तरह से जाना जाता है. इस पौधे का उपयोग पारंपरिक भारतीय भोजन के साथ-साथ आयुर्वेदिक दवाओं में सदियों से किया जाता है. कोलस फोर्स्कोहली रासायनिक प्रतिक्रियाओं के एक कैस्केड के माध्यम से वसा हानि का समर्थन करता है. कोलस फोर्स्कोहली में विशेष रूप से शरीर के भीतर हार्मोन की क्रिया को सुविधाजनक बनाने की क्षमता बहुत अधिक है.

आई स्लिम (i-Slim) बनाने वाली कंपनी इंडस विवा का दावा है कि जब एफबी-3, कोलस फोर्स्कोहली, सालाशिया रेटिकुलाटा और सेसमम इंडिकम के रूप में संयुक्त होते हैं तो वसा को अवरुद्ध करने की एक सुरक्षित और प्रभावी विधि प्रदान करते हैं.

INDUS VIVA i-SLIM : LOSE OR GAIN WEIGHT

एक नैदानिक ​​अध्ययन से पता चला कि एफबी-3 ने विषाक्त वसा, यकृत वसा, शरीर ट्राइग्लिसराइड्स, भोजन की इच्छा और कैलोरी का सेवन कम कर दिया. इसके अलावा, इन विट्रो अध्ययन में पाया गया कि एफबी-3 में कोलस फोर्स्कोहली और सालाशिया रेटिकुलाटा की सहक्रियात्मक कार्रवाई ने 20.7% तक वसा अवशोषण को रोक दिया – लगभग प्रत्येक घटक द्वारा उत्पन्न वसा-अवरुद्ध गतिविधि के योग को दोगुना कर दिया.

Indus Viva i-Slim
i-Slim आर्डर करने के लिये पिक्चर को क्लिक करें.

हालांकि, निर्माताओं का दावा है कि इस एफबी-3 अध्ययन का सबसे रोमांचक परिणाम इस घटक की अंतर्निहित सुरक्षा तंत्र की पहचान थी, जो कोलस फोर्स्कोहली और सेसमम के इंटरेक्शन के साथ होता है.

यह सुरक्षा तंत्र एफबी-3 की वसा-अवशोषण अवरोध क्षमताओं को नियंत्रित करने के लिए है, जो पारंपरिक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल और चयापचय दुष्प्रभावों को रोकने में मदद करता है. ऐसा पारंपरिक वसा अवरोधकों के साथ अक्सर होता है.

अध्ययन से यह भी पता चला है कि कोलस फोर्स्कोहली और सालाशिया रेटिकुलाटा टचफिलेक्सिस को रोकने के लिए सहक्रियात्मक रूप से काम करती है. इसका मतलब है कि एफबी-3 समय के साथ या लोगों की आयु बढ़ जाने पर भी कम प्रभावी नहीं होगा, जो कई वसा अवरोधकों के साथ एक समस्या है.

i-Slim आर्डर करने के लिए यहाँ जाएं : नंदन वर्मा की ऑनलाइन शॉप